मैं और मेरे अल्फाज़ – डॉ उषा साहनी उर्फ अंजलि।

लोक कलाकारों की अपील…

रेगिस्तानी अहसास सदा,
चिलचिलाती धूप और गर्मी,
मिराजों का दामन मिला,
कड़ी मेहनत और मशक्कत से,
बिना कोई उफ़ किए,
लोक कलाओं की परंपरा को,
अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुँचाकर हमने,
भारतीयों को किया गौरवान्वित ।

परात की किनारी पर पैर,
सिर पर मटकियों की कतार,
और कमर को लचकाना।
जादू के नाम पर जोखिम उठा मुंह में,
तिली लगाकर आग जलाना।
ठुमकते हुए आखों की पलकों पर,
धारदार चीज़ उठाना और थिरकना।

रावनहटटा, मोरचांग, ढोलकी,
खड़ताल, इकतारा, चिकारा,
जंतर, डेढ़ सतारा, गुजरी और नागफनी,
इन सुरीले यंत्रों की मनमोहक धुनों से,
हर किसी को खूब रिझाना।
कालबेलिया, घूमर, चारी,
भवई, चांग, कच्ची घोड़ी,
और गैर नॄत्य कर,
सबका दिल मोह लेना और खुश कर देना।

ऐ रहनुमाओं !
आज कोविड-19 के ये अंधेरे,
कर रहे कमज़ोर हैं,
आपके अपने लोक कलाकारों को,
विनम्र है ये अपील आप सभी से,
लोक कलाओं, गीत और संगीत की इस,
विरासत को हममें आप बचा लेना,
खुले दिल से साथ हमारा देकर,
आने वाली नई पीढियों को भी,
इन सबका आनन्द उठाने देना।

By:
Dr. Usha Sawhney
Assistant Professor
Department of English
SMP Govt Girls PG College,
Meerut.
Email ID: usha.sawhney01@gmail.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.